Manjusha Artist Ulupi Jha

मंजूषा कला के रंग अब मॉरीशस में !

Manjusha Artist Ulupi Jhaअंग प्रदेश के गौरवशाली इतिहास से जुड़ी मंजूषा कला के रंग अब मॉरीशस में बिखरेंगे ! मॉरीशस में ४ से ७ जुलाई तक बिहार महोत्सव का आयोजन होने जा रहा है ! इस महोत्सव में बिहार के अलग अलग जिलों से २० कलाकार अपने कला का प्रदर्शन करेंगे ! पहली बार भागलपुरी सिल्क की प्रदर्शनी और बिक्री मॉरीशस में होगी !

मंजूषा कला की वरिष्ठ कलाकार श्रीमती उलूपी झा मंजूषा कला को मॉरीशस में प्रदर्शित करेंगी !

इसके अलावा मधुबनी पेंटिंग में बउवा देवी, भागलपुरी सिल्क में मो० बाबुल , सुजनी शिल्प में संजू देवी , टिकुली पेंटिंग में अशोक कुमार विश्वास , कुश कुमार काष्ठ कला में , पाषाण शिल्प में फिरंगी लाल गुप्ता, सुशीला देवी कशीदा में , निम्मी सिन्हा छापा कला और लाला पंडित टेराकोटा शिल्प को मॉरीशस में होने वाले महोत्सव में प्रदर्शित करेंगे !

अंग प्रदेश और बिहार के लिए ये गौरव की बात है ! सभी कलाकारों को बधाई !

Manjusha Mahotsav Bhagalpur, 2016

मंजूषा महोत्सव २०१६ – झलकियाँ

२०१६ वर्ष मंजूषा कला के लिए अनेकों उपलब्धियों और प्रयासों के लिए जाना जायेगा ; उद्योग विभाग, बिहार सरकार के तत्वाधान में  इस वर्ष मंजूषा महोत्सव का आयोजन किया गया ! अंग भवन, भागलपुर इस ऐतिहासिक कार्यक्रम का गवाह बना ! कुछ झलकियाँ मंजूषा महोत्सव २०१६ की …

Manjusha Mahotsav Bhagalpur, 2016

बिहार के उद्योग मंत्री जय कुमार मुख्य अतिथि थे जिन्होंने इस कार्यक्रम का उद्घाटन किया !

1. उद्योग विभाग और उपेंद्र महारथी शिल्प अनुसंधान संस्थान द्वारा भागलपुर में 17-19 अगस्त तक मंजूषा महोत्सव का आयोजन किया गया !
2. मंजूषा कला पर आधारित १०० कलाकारों के त्रिदिवसीय वर्कशॉप का भी आयोजन किया गया !
3. हस्तशिल्प और हैंडलूम के २२ स्टाल लगाये गए जिसमें विविध कलाओं के साथ साथ मंजूषा कला से जुड़े विभिन्न उत्पादों की प्रदर्शनी भी थी !
4. अंगिका भाषा में लोकगीत, भजन और बिहुला बिषहरी से संबंधित गीत और नाटक का मंचन किया गया !
5. मंजूषा कला का भविष्य और चुनौती विषय पर परिचर्चा हुई जिसमें अनेकों विद्वानों ने अपने अनुभव और पक्ष को लोगों तक पहुँचाया !
6. मंजूषा महोत्सव का आयोजन हर वर्ष होगा ऐसी घोषणा  हुई !
7.  मंजूषा कला को रोजगार से जोड़ने, कलाकारों के आर्थिक उपार्जन पर और मंजूषा कला को सिल्क से जोड़ने पर भी चर्चा हुई !

EthnicAlive और Manjushakala.in द्वारा लगाये गए स्टॉल में मंजूषा कला पर आधारित उत्पादों को प्रदर्शित किया गया ! इसमें मंजूषा साड़ी, मंजूषा कला से बने दुपट्टे, मंजूषा कला से बने पेन स्टैण्ड, वाल हैंगिंग, मंजूषा कला चादर, मंजूषा कला गमछा, मंजूषा कला कुशन कवर, मंजूषा पेंटिंग इत्यादि चीजों को दिखाया गया ! Manjushakala.in से जुड़े “सुजीत कुमार” कहते है – “इस तरह का आयोजन कला को नया मुकाम देगा, कलाकारों को एक मनोबल मिलता है की वो कला को और आगे बढ़ाएं” ! इस अवसर पर Manjushakala.in ने मंजूषा कला से जुड़े अपने एंड्राइड मोबाइल एप्प को भी लोगों तक पहुँचाया !

Manjusha Art Stall

Manjusha Art Products

Manjusha Art Fair Festival

Manjusha Art Shopping By EthnicAlive

Prabhat-Khabar News Paper Manjusha Art

भागलपुर सैंडिस कम्पाउंड की दीवारें मंजूषा पेंटिंग से सज गई !

मंजूषा कला के बढ़ते कदम ! १५ मई रविवार की सुबह सैंडिस कम्पाउंड, भागलपुर ; मंजूषा कला के लिए ऐतहासिक रहा यहाँ पर ५० से ज्यादा कलाकारों ने अंग प्रदेश की संस्कृति को दीवारों पर उकेरा ! १५० फ़ीट की दीवारें मंजूषा पेंटिंग से सज गई, अनेकों कलाकारों ने इन दीवारों को जीवंत कर दिया !

मंजूषा कला से जुड़े कलाकारों और सांस्कृतिक संगठनों के सामूहिक प्रयास से ये कार्यक्रम सफल हो पाया ! जिला प्रशासन की ओर से इस पहल को साकार किया मंजूषा कलाकारों ने ! मंजूषा की जागरूकता और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इसे पहचान दिलाने के लिए ये एक सकरात्मक प्रयास था !

मंजूषा गुरु “श्री मनोज पंडित” जी ने इस पुरे कार्यक्रम की रुपरेखा रखी ! सभी कलाकारों को पुरुस्कृत किया गया ! इस आयोजन को सफल बनाने में रेडियो एक्टिव ने भी अहम भूमिका निभाई !

Dainik Bhaskar Manjusha Art Dainik Jagran News manjusha Art Prabhat-Khabar News Paper Manjusha Art

Manjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh CompoundManjusha Art Wall Gallery Sanidsh Compound

Manjusha Art Updates Bring By Manjushakala.in Team.

Introduction of Manjusha Art

An Insight View of “MANJUSHA ART” – Video

अंग प्रदेश एक समृद्ध और प्रभावशाली संस्कृति का उदाहरण है ; वर्तमान में ये बिहार, झारखंड, और पश्चिम बंगाल के हिस्सों में विभाजित है ! उत्तर भारत में अंग प्रदेश का विशीष्ट स्थान है, इसी अंग प्रदेश की पौराणिक मान्यताओं से जुडी है मंजूषा कला ! आइये जाने इसके बारें में ~

It is said that worlds first pictorial art is Manjusha Art which belongs to Angpradesh a part of ancient northern India.
This documentary is done by Siddhant Kumar a student of IIT Mumbai and his team who belongs to modern Angpradesh.

Video Credit : Siddhant Kumar a student of IIT Mumbai